The best Side of बाथरूम में बैठकर 5 बार नाम लिखते ही पड़ोसन आपके पास होगी +91-9779942279




जोश के कारण मैं बोलने लगी- और चोदो ! और चोदो ! और चोदो !

थोड़ी देर बाद अचानक अपने लंड पर किसी के स्पर्श से मैंने आंखे खोली तो देखा कि दीदी उससे खेल रही है और उसे खड़ा करने की कोशिश कर रही है। मेरे आँख खोलते ही मुझे अर्थपूर्ण दृष्टि से देखा। मैं समझ गया कि अब भी दीदी की चाहत पूरी नहीं हुई तो मेरा फिर से खड़ा हो गया और मैंने फिर से दीदी की चूत में घुसा दिया। इस बार मैंने लण्ड चूत पर रखा और धीरे-धीरे नीचे होने लगा और लण्ड चूत की गहराइयों में समाने लगा। चूत बिल्कुल गीली थी, एक ही बार में लण्ड जड़ तक चूत में समा गया और हमारी झाँटे आपस में मिल गईं। अब मेरे झटके शुरु हो गए और दीदी की सिसकियाँ भी…

तो मैंने अपना लण्ड निकाल कर उनके मुँह में डाल दिया और वो लण्ड देखते ही चिल्ला उठी- यह क्याऽऽऽ ?

भोज पत्र पर स्याही से इस यन्त्र के कोनो मे आप अपने शत्रु का १२ बार नाम लिखे , एक-एक अक्षर में और नाम के पेरो में "ई " लिखे जैसे यन्त्र में दिखाई से रहा है तथा फिर इस यन्त्र को पीपल के वृक्ष में निचे धूल लेकर शत्रु की मूर्ति बना ले. फिर इस यन्त्र को शत्रु के दिल की तरफ रख दे.

मैंने उसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है?

और एक क्रन्तिकारी जिसने हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी और उनके कुछ बहुत याद किये जाने वाले गीत कविता , मेरा रंग दे बसंती चोला और खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है !

एक दोस्त के माध्यम से एक मुस्लिम परिवार में आना जाना था। पाँच लोगों का परिवार था वो। पति सलीम ट्रक ड्राईवर जो ज्यादातर घर से बाहर ही रहता था जिसको मैंने कभी घर read more पर नहीं देखा और न ही उसकी शकल जानता हूँ। पत्नी शबनम, थोड़ा सांवला रंग पर कसा हुआ बदन ३४-२८-३६ उम्र उस समय ३६-३७, बड़ी लड़की शमीम उमर १८, रंग साफ़ ३०-२८-३४ दिखने में साधारण उससे छोटी बानो, और सबसे छोटा लड़का उम्र १० साल मैं एक बार उनके घर गया तो शबनम ने कहा कि घर मैं तंगी है इसलिए शमीम को कहीं नौकरी लग जाए तो अच्छा रहेगा। मैंने मेरे ऑफिस में उसको नौकरी पर रख लिया। मैं उस वक्त तक उनके बारे में कुछ भी ग़लत नहीं सोचता था।

bhagavantudu tananu chala tirikaga tana shariranni malichada annatu undi naa garala patti,andala raasi.naa chitti challemma.naa kosame tana sharriranni inta merugu petti

और वो हा हा ही ही करके हंसने लगी। उनको हंसते देखकर मुझे भी हंसी आ गई। लेकिन चाय से होने वाली जलन से मेरी आँखों में आंसू आ गये थे।

फिर पीछे से आवाज आई- शिमत, क्या कर रहे हो ?

भगत सिहं क़ी आख़िरी इच्छा जो आजतक पुरी नहीं हुई !!

और भगत सिहं ने सॉन्डर्स को गोली से उड़ा दिया

फिर मेरी तरफ सेक्सी निगाहों से देखती हुई अपने होठों को चाटने लगी। मैंने आगे बढ़कर मामी को बाहों में भर लिया और चूमने लगा। मैं कहने लगा- आपने तो मुझे स्वर्ग की सैर करा दी !

मैंने झट से चूचियों पर कब्ज़ा कर लिया और उन्हें दबाने और चूसने लगा और मुंह में लण्ड की पिचकारी मार दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *